Monday, August 15, 2022

आजाद होना संप्रभु राष्ट्र का बस हिस्सा होना भर नहीं है

चाहे कितने भी बरस बीत गए हों 
आजाद रहते किसी देश को 
और कितने भी ज्यादा आजाद 
होते चले हों गए हों वहां के लोग 

हर किसी में 
थोड़ी और आजादी की गुंजाइश 
हमेशा बची रहती है

रोज नए फंदे हैं 
रोज नयी जकड़नें  
गुलाम होते चले जाना इतना आसान और लुभावना है

आजाद होना और आजादी कायम रखना मगर 
मशक्कत से भरी एक लम्बी प्रक्रिया से गुजरना है 
जो होता है कइयों के लिए अंतहीन भी  

आजादी की प्रक्रिया के बारे में 
वह आदमी 
शायद सबसे बेहतर बता पायेगा
जो सबसे ज्यादा लड़ कर आजाद हुआ हो
या फिर वो जो सबसे ज्यादा लड़ कर भी गुलाम हीं हो अब तक 

अपनी लड़ाई से जाना है मैंने कि 
आजादी सापेक्षता के सिद्धांत के परे नहीं है 
जैसे कि गरीबी या फिर अमीरी 

हम सब पारस्परिक आजादी की यात्रा में हैं 
हमारी आजादी असमान है 
हममें से ज्यादातर के लिए आजादी अभी दूर की चीज है

और हर घर तिरंगा लाने की, फहराने की जिम्मेवारी हमारी है 
ज्यादा उनकी जो आजादी के ज्यादा नजदीक खड़े हैं...

No comments: