Saturday, April 11, 2009

एक सबसे ख़ूबसूरत घटना का एक और जन्म

वो बालकनी में अपने लंबे बालों के साथ है
एक ठीक निश्चित वक्त पे आ जाती है वो कंघा लेकर
वो नीचे जाता हुआ होता है
लगभग उसी वक्त पर

एक दूसरे को देखकर वे दोनों अपने चेहरे सँभालते हैं
वह उसके आंखों में गिरती अपनी आंखों को तीव्रता से रोक लेती है
वह अपनी नजरों को तीव्रता से ऊपर ले जा कर
उसके वजूद में गिरा देता है
और लौटा लेता है

धीरे-धीरे वो अपनी आंखों को ढील देने लगती है
वो भी एक जगह खोज कर वहां होने लगता है
जहाँ से बालकनी उसके लंबे बालों के साथ नजर आती है

कई शामें बीत चुकी हैं
अब वे एक दुसरे को वाद्य यंत्रों पे सुनते हैं
और टेलीविजन पे देखते हैं
अपने साथ नाचते और गाते हुए

प्रकृति की एक सबसे ख़ूबसूरत घटना का
एक और जन्म हो चुका है

8 comments:

SWAPN said...

कई शामें बीत चुकी हैं
अब वे एक दुसरे को वाद्य यंत्रों पे सुनते हैं
और टेलीविजन पे देखते हैं
अपने साथ नाचते और गाते हुए

प्रकृति की एक सबसे ख़ूबसूरत घटना का
एक और जन्म हो चुका है

sunder rachna.

ओम आर्य said...

Thank You, Yogesh Ji, for keep visiting my blog and appreciating. thanks once again.

संध्या आर्य said...

एक खुबसुरत भाव के साथ एक खुबसुरत रचना .......

प्रकृति की एक सबसे ख़ूबसूरत घटना का
एक और जन्म हो चुका है.............


जीवन के हर एक रंग प्रकृति से जुडी है ...........प्रकृति
मे ही सब रंग समाहित है जीवन का......प्रकृति के एक खुबसुरत से रंग को सुन्दर रुप मे प्रस्तुत किया...........thanks alot....

vandana said...

bahut badhiya likha hai.

raj said...

parkreetee ki ek sabse khubsurat gatna ka ek or janam ho chuka hai..v nice

Harkirat Haqeer said...

कई शामें बीत चुकी हैं
अब वे एक दुसरे को वाद्य यंत्रों पे सुनते हैं
और टेलीविजन पे देखते हैं
अपने साथ नाचते और गाते हुए

प्रकृति की एक सबसे ख़ूबसूरत घटना का
एक और जन्म हो चुका है

ओम जी , कहीं आप ऊपर लगी तस्वीर के भूतों का ज़िक्र तो नहीं कर रहे.....??

डॉ .अनुराग said...

दिलचस्प.......हमें तो गोया एक बालकनी सी दिख रही है.

Nirmla Kapila said...

bahut hee sundar abhivayakti hai shubhkaamnaaye