Monday, August 3, 2009

पैबंद

समय घिस-घिस कर फटता रहा
और हम उनपे पैबंद लगाते रहे

कुछ यूँ ही गुजरी जिंदगी हमारी

हालात तो हमने ढक दिये पैबंदो से
पर पैबंदो को हम नही ढक पाये.

30 comments:

AlbelaKhatri.com said...

haalaat toh humne dhak diye paibandon se
par paibandon ko dhak nahin paaye.......

hay hay hay ....
kavita ke charmotkarsh ka charmbindoo hai ye !
BHAI
EK HI VAAKYA AAPKE LIYE....
BADHAAI !

Meenu khare said...

आपकी प्रोफाइल के ऊपर लगी कविता मुझे बहुत अच्छी लगती है.

kshama said...

पैबन्दों को हम कब ढँक paate हैं ?

"तमाशा यूँ सरे आम कर गया ,
हमारी तो निगाहें झुका गया
शानसे नज़र अंदाज़ कर गया ,
अपनी मंज़िले जानिब , निकल गया ...!
कहा,अब आज़ाद हो,मै चला..!
पैरों में और भँवर बाँध गया.."

M VERMA said...

पैबन्द को ढकने के लिये एक और पैबन्द लगा लो
रिश्ते तो बेमानी हुए एक और अनुबन्ध लगा लो
बेहतरीन

योगेन्द्र मौदगिल said...

भावात्मक अभिव्यक्ति... वाह..

Udan Tashtari said...

भाव उम्दा है, जरा बांधिये पैकेज में!! :)

raj said...

boht khoobsurati se likha hai...dosh halaat ka hi hota hia,insaan bewafa nahi hota..kuch halaat hi aise ho jate hai...

mehek said...

bahut achhi lagi rachana badhai.

sada said...

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति आभार्

कंचन सिंह चौहान said...

हालात तो हमने ढक दिये पैबंदो से
पर पैबंदो को हम नही ढक पाये.

bahut khoob....!

दिगम्बर नासवा said...

सच कहा Om जी ............ एक tanke को seete seete doosra ughar जाता है ........... कुछ ही shabdon में likhi gahri बात ............ देर तक ruki rahtihai आपकी rachna maanas patal पर.......

महामंत्री - तस्लीम said...

Aapki soch ki thaah paana namumkin hai. Gazab.
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

रश्मि प्रभा... said...

बहुत गहरे भाव.......

रश्मि प्रभा... said...

कुछ नज्में जो छूट जाती हैं अधूरी .... अपनी ये रचना लिखित और अपनी आवाज़ min एकॉर्ड करके भेज दें,हिन्द्य्ग्म काव्य-मंच के लिए....संक्षिप्त परिचय भी

वन्दना अवस्थी दुबे said...

लिखते तो हम भी हैं मगर,
आप कमाल कर जाते है.

महफूज़ अली said...

हालात तो हमने ढक दिये पैबंदो से
पर पैबंदो को हम नही ढक पाये.


kya likha hai Omji aapne.......

mujhe aisa lagta hai ki aap wahi likhte hain....... jo main sochta hoon....... meri soch ko aap lafzon ka roop de dete hain......

aapke lekhan ka main bahut bada FAN hoon........


aur! haan! apke sunder comments mera hausla badhate hain........ iske liye main apka shukrguzaar hoon........

संजीव गौतम said...

सुन्दर रचना मुझे भी अपने गीत की पंक्तियां याद हो आयी-
फटे सोल सा वक्त हुआ है
अंधा,लंगडा,गूंगा-बहरा.

संध्या आर्य said...

हालात तो हमने ढक दिये पैबंदो से
पर पैबंदो को हम नही ढक पाये.

bahut hi sahi gar paiwand dhakana aata to jindagi se koi sikawaa bhi nahi hoti .......tab insan aapani har galatiyo ko dhank sakata tha our sabhi kharab samayo par parda dal kar insan khush ho sakata tha ............kyoki maansa par ko rough lakir nahi hoti .....ek behatarin abhiwyakti

adwet said...

0m ji bahut khoob kaha aapne- par paibandon ko dhak vahin paye

Babli said...

छोटी सी प्यारी सी कविता मुझे बेहद पसंद आया! बहुत खूब!

ओम आर्य said...

मीनू जी, बहुत शुक्रिया.
मेरे प्रोफाइल के ऊपर जो कविता है वो मेरे भी दिल के बहुत करीब है.

रश्मि प्रभा जी, आपने मुझे हिंदी-युग्म के लिए मुझे आमंत्रित किया है, यह मेरे लिए एक पुरस्कार के समान है. बहुत-बहुत शुक्रिया. आपका जन्म सीतामढ़ी में हुआ है, जानकार अच्छा लगा.

अन्य मित्रगण, जो लगातार आ रहे हैं मेरे ब्लॉग पर और अपनी प्रतिक्रिया से मुझे प्रेरित करते रहे हैं. मैं उन सभी मित्रों का मैं तहे दिल से शुक्रगुजार हूँ. बहुत धन्यवाद.

vandana said...

aaj to tarif ke liye shabd kam pad gaye hain..........na jaane kahan se itne gahre vichar late hain ..........kuch hi panktiyon mein kitni goodh baat kah di.........shayad aaj tak ki sabse behtreen rachna hai .

Mithilesh dubey said...

आज तो मेरे पास शब्द ही नही है इस रचना के लिए, है तो बस यही लाजवाब।

नीरज गोस्वामी said...

आप की रचना से बरसों पहले पढ़ा एक शेर याद आ गया:

ज़िन्दगी क्या किसी मुफलिस की क़बा है
जिसमें हर घडी दर्द के पैबंद लगे जाते हैं
मुफलिस: गरीब, क़बा: कम्बल...

नीरज

Prem Farrukhabadi said...

हालात तो हमने ढक दिये पैबंदो से
पर पैबंदो को हम नही ढक पाये.

kya khoob likha badhai!!!

उसका सच said...

हालात तो हमने ढक दिये पैबंदो से
पर पैबंदो को हम नही ढक पाये.

log bato bato mein bahut kuchh kah jate hain...aap kavy rachna mein bahut kuchh kah jaate hain..yahi to khasiyat hai aapki om bhai...

saurabh k.swatantra

उसका सच said...

agar albela ji ek hi vakya mein badhai de rahe hain to mai aapko ek hi lekh mein badhai deta hu.

चंदन कुमार झा said...

लाजवाब.........

योगेश ’अर्श’ said...

दिल को छू गई ये रचना आपकी!

sa said...
This comment has been removed by a blog administrator.