Monday, August 17, 2009

याद में

इस लड़खड़ाती रात में
उसकी यादों की उंगली थामे चल रहा हूँ

उसकी यादों का वजूद
मेरे हर गिरते पल को थाम लेता है

याद में ये राहें इतनी व्यस्त नही हैं
यहाँ प्यार से चलने के लिये
जगह भी है और वक़्त भी
इन पर जरा बेफिक्र हो कर चला जा सकता है

याद में उसकी लबे हैं पंखुडी जैसी
जहाँ गुलाब महकता है
एक लहर है नजरों में
जिस पर समंदर बहकता है

इस लड़खड़ाती रात में
उसकी यादों की उंगली थामे चल रहा हूँ
और उम्मीद है कि
एक पुख्ता सुबह तक पहुँच जाऊंगा

26 comments:

अनिल कान्त : said...

सही कहा यादों में सुकून होता है

sada said...

उसकी यादों का जिंदा वजूद,
मेरे हर गिरते पल को थाम लेता है,
बहुत खूब लिखा है आपने बधाई ।

नीरज गोस्वामी said...

आया ही था ख्याल की आँखें छलक पढीं
आंसू किसी की याद से कितने करीब थे
ये शेर याद आ गया आपकी कमाल की रचना पढ़ कर...आप बहुत ही अच्छा और दिल से लिखते हैं...बधाई...
नीरज

चन्दन कुमार said...

सबसे पहले मै ये कहूंगा कि शब्दों में आपके जादू है, जो आप बख़ूबी इश्तेमाल करते हैं,

संजीव गौतम said...

बिलकुल सही ओम जी. यादें ईश्वर के द्वारा मनुष्य को बख़्शी गयी बहुत बडी नियामत है. सुन्दर रचना.

Harkirat Haqeer said...

इस लडखडाती रात में
उसकी यादों की उँगली थामें चल रहा हूँ

वाह ....बहुत खूब .....!!

pukhraaj said...

yaadon me jeene ka maza kuch aur hi hai ...par ye yaaden bhi kabhi kabhi saath chod jaati hain ..

raj said...

achhi baat hai yadin skoon de rahi hai..warna to ye preshan hi kartee hai...na sahi mel mulakato ka yado ka sahi,hum se kisi tarah ka rishta bnaye rakhna..hmesha ki tarah khoobsurat kavita...

kshama said...

हम किसी ना किसी याद के सहारे , ता -उम्र सुकून तलाशते रहते हैं ..कभी मिलता है ,कभी और अधिक तड़प नसीब होती है ..
किसे ख़बर किस मोड़ पे क्या मिले,
हमें सब मोड़ अंधे मिले...

रश्मि प्रभा... said...

yaaden.....zindagi ka saar hain

shama said...

एह्साओं का गहरा दरिया मिला,
डूबे तो उभरने का मौक़ा न मिला॥

आपकी हरेक अभिव्यक्ती सशक्त होती है..

http://shamasansmaran.blogspot.com

http://shama-kahanee.blogspot.com

http://shama-baagwaanee.blogspot.com

http://kavitasbyshama.blogspot.com

हिमांशु । Himanshu said...

यादें बहुत राहत देती हैं । रचना का आभार ।

चंदन कुमार झा said...

यादों में घुली मिली कविता...बहुत सुन्दर.

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

uski yadon ka wajood mere har girte pal ko thaam leta hai...
wah wah...
sundar abhivyakti..

Nirmla Kapila said...

उसकी यादों का जिंदा वजूद,
मेरे हर गिरते पल को थाम लेता है,
बहुत खूब लिखा है आपने बधाई ।
बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति है बधाई

mayank.k.k. said...

यादों को लेकर इतनी भावपूर्ण रचना का सफल निर्वहन, बधाई. मैं काफी दिनों बाद आया, क्षमा चाहूँगा. एक नई गजल पोस्ट की है, आप का हुनरमंद हौसला चाहिए.

सागर said...

और उम्मीद है कि एक पुख्ता
सुबह तक पहुँच जाऊंगा

... आमीन

रज़िया "राज़" said...

इस लड़खड़ाती रात में
उसकी यादों की उंगली थामे चल रहा हूँ
और उम्मीद है कि
एक पुख्ता सुबह तक पहुँच जाऊंगा
बेशक! आपकी उम्मीद को दाद देती हुं।

रज़िया "राज़" said...

इस लड़खड़ाती रात में
उसकी यादों की उंगली थामे चल रहा हूँ
और उम्मीद है कि
एक पुख्ता सुबह तक पहुँच जाऊंगा
बेशक! आपकी उम्मीद को दाद देती हुं।

दिगम्बर नासवा said...

किसी की यादों में खुद को खो कर चलना कितना सुखद होता है............... फिर किसको जरूरत है सुबह की.........

लाजवाब लिखा है ओम जी ........... बहूत ही सुकून देता है आपका लिखा

vandana said...

yaadon ke kafile sang sang hi chalte hain ,kabhi hum unmein doobte hain to kabhi bhatsakte hain.....bahut sundar likha.

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) said...

इस लड़खड़ाती रात में
उसकी यादों की उंगली थामे चल रहा हूँ
और उम्मीद है कि
एक पुख्ता सुबह तक पहुँच जाऊंगा
बहुत खूब ॐ जी बहुत ही सुन्दर रचना
मेरी बधाई स्वीकार करे सादर
प्रवीण पथिक

Mithilesh dubey said...

इस लडखडाती रात में
उसकी यादों की उँगली थामें चल रहा हूँ


बहुत सुन्दर.

vallabh said...

''उम्मीद है कि
एक पुख्ता सुबह तक पहुँच जाऊंगा''
उम्मीद पर तो दुनिया कायम है...
चलते रहिये...

हेमन्त कुमार said...

गहरे भावों वाली कविता।आभार।

भूतनाथ said...

............अरे ॐ जी आपकी इस "याद" ने अपन को भाव विह्वल कर दिया.....सच..... इक मुकम्मल सुबह तक आप पहुँच ही जायेंगे....!!