Thursday, October 1, 2009

मुद्दत तलक वो मुझे फूंकती थी !

किसी ने उसे कभी दिया था जला
पीने से पहले वो मुझे फूंकती थी

बादल को मैंने कहा था कभी
कि बूँदें तुझे एक दिन छोड़ देंगी

मुहब्बत की ताजी नजर से गिरी हो
कायनात को तुम डुबो के रहोगी

कड़ी धूप में जिंदगी तप रही है
मैंने तेरे सारे छाँव खो दिए हैं

छोड़ दिया उसने जब ख्वाबों में आना
मैंने भी छोड़ दिए ख्वाब सजाना

सब कुछ हो जब बिलकुल हीं सही
कोई न कोई कांच टूट जाता वहीँ

33 comments:

M VERMA said...

कड़ी धूप में जिंदगी तप रही है
मैंने तेरे सारे छाँव खो दिए हैं
तपी हुई जिन्दगी को फिर छाँव मिलेगा जरूर और फिर सारी तपन सकून मे बदल जायेगी.
बेहतरीन रचना करीब आकर ठहर गयी

विनोद कुमार पांडेय said...

Om ji, main do dino se intzaar kar raha tha ki kuch naya aur behtereen rachana aane wala hai aapne khatm kar di intzaar ki ghadi aur lekar aa gaye khubsurat rachana....thoda hatke hai par waise hi pahale ki tarah dil ko bhane wala kavita..bahut badhayi..om ji,

महफूज़ अली said...

छोड़ दिया उसने जब ख्वाबों में आना
मैंने भी छोड़ दिए ख्वाब सजाना......

wah yeh lines bahut hi achchi rahi.....

bahut hi behtareen likha hai aapne....

mehek said...

छोड़ दिया उसने जब ख्वाबों में आना
मैंने भी छोड़ दिए ख्वाब सजाना

सब कुछ हो जब बिलकुल हीं सही
कोई न कोई कांच टूट जाता वहीँ
waah ye alag andaze bayan bahut badhiya raha,sab kuch hokar bhi koi kanch chitak jata hai,waah.

समयचक्र - महेंद्र मिश्र said...

बेहतरीन रचना , बधाई

कुलवंत हैप्पी said...

काँच को अगर अशुभ सागुन के रूप में आपने पेश किया है तो बहुत खूबसूरत स्तर है, कहने भाव पंक्ति

Nirmla Kapila said...

कड़ी धूप में जिंदगी तप रही है
मैंने तेरे सारे छाँव खो दिए हैं
और
छोड़ दिया उसने जब ख्वाबों में आना
मैंने भी छोड़ दिए ख्वाब सजाना...
दर को शब्द देना आपकी कलम की खासीयत है बहुत गहरे से दोल को छूती हैं आप की ऐसी अनुभूतियाँ शुभकामनायें

raj said...

छोड़ दिया उसने जब ख्वाबों में आना
मैंने भी छोड़ दिए ख्वाब सजाना......aisa kaise??kucch adhure kwab ankho me saja ke chal diya..wo mere nazdeek aa ke muskura ke chal diya...सब कुछ हो जब बिलकुल हीं सही
कोई न कोई कांच टूट जाता वहीँ..or bikhra kanch smetne me yakeenan hath to jakhmi hote hai...

योगेश स्वप्न said...

behatareen bhavabhivyakti ke saath lay badh rachna ka naveen prayaas, bahut khoob, badhai aur shubhkaamnayen.

Mithilesh dubey said...

छोड़ दिया उसने जब ख्वाबों में आना
मैंने भी छोड़ दिए ख्वाब सजाना

उम्दा व बेहतरिन रचना। आपकी ये लाइनें तो बहुत ही पसन्द आयी।

Apanatva said...

bahut hee acchee rachana .badhai

Pankaj Mishra said...

ओम भाई नमस्कार !
अत्यंत सटीक रचना बधाई

दर्पण साह "दर्शन" said...

waise to saare hi asha'r behterin hainpar ye ciggrete wala behterin laga:
"बादल को मैंने कहा था कभी
कि बूँदें तुझे एक दिन छोड़ देंगी"

Alatarin !!

दर्पण साह "दर्शन" said...

सब कुछ हो जब बिलकुल हीं सही
कोई न कोई कांच टूट जाता वहीँ

bilkul sahi kaha yahi to hai sukh-dukh ke saath zindagi ke rishtey ka falsafa !!

"Many a slip b'ween cup and a lip"

दर्पण साह "दर्शन" said...

pehle wale comment main galat line paste ho gayi thi:

बादल को मैंने कहा था कभी
कि बूँदें तुझे एक दिन छोड़ देंगी

ko
"किसी ने उसे कभी दिया था जला
पीने से पहले वो मुझे फूंकती थी"
padha jave !!
:)

अभिषेक ओझा said...

जब वो ही नहीं तब क्या ख्वाब सजाना ! सही बात है.

वन्दना said...

ek bahut hi khoobsoorat rachna.

JHAROKHA said...

कड़ी धूप में जिंदगी तप रही है
मैंने तेरे सारे छाँव खो दिए हैं

छोड़ दिया उसने जब ख्वाबों में आना
मैंने भी छोड़ दिए ख्वाब सजाना

बहुत सुन्दर भवनात्मक अभिव्यक्ति-----मन को स्पर्श करने वाली।
पूनम

Babli said...

बेहद ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने जो दिल को छू गई! उम्दा रचना!

kshama said...

aapkee rachnayen padhte waqt lagta hai, aap kavita ekroop hain...abhinn...ekhee astitv...dard kaa izhaar lekin, rachnayen ek doosare se har samay alaahida...ye kamal ka fan haasil hai aapko..

sada said...

सब कुछ हो जब बिलकुल हीं सही
कोई न कोई कांच टूट जाता वहीँ

बहुत ही गहरे भावों के साथ लाजवाब प्रस्‍तुति ।

awaz do humko said...

behtareen

अर्शिया said...

बहुत गहरे बिम्ब प्रयोग किये हैं आपने।
Think Scientific Act Scientific

sangeeta said...

छोड़ दिया उसने जब ख्वाबों में आना
मैंने भी छोड़ दिए ख्वाब सजाना
*********
सब कुछ हो जब बिलकुल हीं सही
कोई न कोई कांच टूट जाता वहीँ
*********

bahut sundar abhivyakti hai....badhai

Rajey Sha said...

आपकी लेखनी पहली बार देखी, बेहतरीन लगीं।

रंजना said...

वाह ! वाह ! वाह ! रचना में निहित भाव तथा शब्द चयन एवं विन्यास ने तो मुग्ध ही कर दिया....
बहुत ही सुन्दर रचना...

श्रद्धा जैन said...

koi na koi kaanch chhut jata hai wahi
kamaal ki baaten
har baat sach

दिगम्बर नासवा said...

छोड़ दिया उसने जब ख्वाबों में आना
मैंने भी छोड़ दिए ख्वाब सजाना

VAAH OM JI EK OUR LAJAWAAB PRASTUTI AAPKI KLAM SE ..... AAP JAB JB RAS KI DHARA BHATE HAIN ..... NADIYA TO AAP HI FOOTNE LAGTI HAI .... BHOOT KHOOB LIKHA HAI ...

ambuj said...

छोड़ दिया उसने जब ख्वाबों में आना
मैंने भी छोड़ दिए ख्वाब सजाना

क्यों भैया.. किसी ने ख्वाब में आना छोड़ दिया तो किसी और का ख्वाब सजाओ..

गौतम राजरिशी said...

ओम {अब ये "जी" नहीं लगाऊंगा}, आपके स्नेह, अधिकार और दुआओं ने बांध लिया है।

Mithilesh dubey said...

सुन्दर व बेहद खूबसूरत रचना।

sa said...
This comment has been removed by a blog administrator.
aa said...
This comment has been removed by a blog administrator.