Saturday, June 27, 2009

पतझड़ के उन्ही सुखे पत्तों पर !

गुजरता रहेगा वक़्त
पर मौसम टंगे रहेंगे
पतझड़ के उन्ही सुखे पत्तों पर

आर पार जाती रहेंगी साँसें पर
ह्रदय पर के दबाब कम नही होंगे

पसरती रहेगी धूप
छत और आंगन के कंधों पर
पर छू नही पायेगी वे देह की सीलनो को

बहुत सारा पानी बहता रहेगा पर
रक्त टिका रहेगा वहीँ
जहाँ कटे थे रिश्ते

लिखी जाने वाली किताबें
तेरे किरदार के इंतज़ार में
गुमसुम बैठी रहेंगी

तेरे लौटने तक
सब कुछ टंगा रहेगा
मेरे साथ दीवार की खूंटी पर

23 comments:

AlbelaKhatri.com said...

waah waah

patjhadi paaton ka mausam par tangaav
hriday ka dabaav
aur deh ki seelan

aapka ek ek shabd kavita ke roop-swaroop
saundryavardhan karta hai

omji, kya baat hai !

kis bodhi vriksh ke neeche baithe ho bhai,
zaraa hamen bhi toh bataao...

________bahut umda kavita ..badhaai !

sada said...

बहुत सारा पानी बहता रहेगा पर
रक्त टिका रहेगा वहीँ
जहाँ कटे थे रिश्ते

बहुत ही बढि़या रचना ।

MANVINDER BHIMBER said...

गुजरता रहेगा वक़्त
पर मौसम टंगे रहेंगे
पतझड़ के उन्ही सुखे पत्तों पर

kya baat hai....bahut sunder likha hai

सागर said...

दिन ब दिन छाते जा रहे हो मियाँ....

और... मायने भी गहरे होते जा रहे है... बहुत अच्छा लिख रहे है आप...

फलो-फूलो, फलो-फूलो, फलो-फूलो
खैर छोड़ो...

vandana said...

har line mein adbhut ahsaas dabe huye hain jo dil ko choo jate hain ...........ab isse aage kya kahun.........behtreen.

दिगम्बर नासवा said...

वाह कितनी ही लाजवाब रचनाएँ पढ़ चुका हूँ अब तक आपके ब्लॉग पर और हर बार नए एहसास , नए लम्हों को लेकर आप इतना खूबसूरत ताना बाना बुनते हैं की मन खो जाता है ................. बहूत दूर गहराईमें

Harkirat Haqeer said...

तेरे लौटने तक
सब कुछ टंगा रहेगा
मेरे साथ दीवार की खूंटी पर

बहुत खूब......!! शानदार लेखन ....!!

वो आखिर लौटती क्यों नहीं .....!!

SWAPN said...

shaandaar rachna. bahut khoob.

Prem Farrukhabadi said...

bahut sundar!

गुजरता रहेगा वक़्त
पर मौसम टंगे रहेंगे
पतझड़ के उन्ही सुखे पत्तों पर

आर पार जाती रहेंगी साँसें पर
ह्रदय पर के दबाब कम नही होंगे

संध्या आर्य said...

तेरे लौटने तक
सब कुछ टंगा रहेगा
मेरे साथ दीवार की खूंटी पर

बेहद सम्वेदनशील पंक्तियाँ ..............

बहुत सारा पानी बहता रहेगा पर
रक्त टिका रहेगा वहीँ
जहाँ कटे थे रिश्ते

शब्द भी इंकार कर रहे है .........क्या कहे दर्द ही दर्द रिस रहा है इन पंक्तियो से ..........

महफूज़ अली said...

लिखी जाने वाली किताबें
तेरे किरदार के इंतज़ार में
गुमसुम बैठी रहेंगी

wah wah kya likha hai aapne.......
really philosophical......

aapke comments ka main shukraguzzar hoon......... aise padh ke mujhe ........mera hausala badhate rahiye.....

raj said...

aapke ahsaas lajwaab hai....har kavita ek kahani hai...

अशोक कुमार पाण्डेय said...

अच्छी कविता है भाई…
पांचवीं पंक्ति से ^के^ हटाया जा सकता है क्या?

sandhyagupta said...

Atyant bhavpurn abhivyakti.Badhai.

महेन्द्र मिश्र said...

अच्छे भाव . अच्छी रचना

chhotigali said...

पतझर के सूखे पत्ते, शायद पत्ते सूख गये बसंत के इंतजार में, शायद कुछ नये की तलाश में........बेहद उम्दा रचना

Mumukshh Ki Rachanain said...

पसरती रहेगी धूप
छत और आंगन के कंधों पर
पर छू नही पायेगी वे देह की सीलनो को

बहुत सारा पानी बहता रहेगा पर
रक्त टिका रहेगा वहीँ
जहाँ कटे थे रिश्ते

उपरोक्त पंक्तियों की रचना पर जितनी भी तारीफ की जाये कम है.
अति गहरे भाव, दिल को छूने वाले.

बधाई,

चन्द्र मोहन गुप्त

योगेन्द्र मौदगिल said...

सुंदर कविता


तेरे लौटने तक
सब कुछ टंगा रहेगा
मेरे साथ दीवार की खूंटी पर


वाह....

श्याम सखा 'श्याम' said...

पसरती रहेगी धूप
छत और आंगन के कंधों पर
पर छू नही पायेगी वे देह की सीलनो को

मन के सागर में बहुत गहरे उतर कर लिखते हो भाई
बहुत सुन्दर....हैं सबद सरीखे
श्याम

Babli said...

बहुत ही सुंदर भाव और एहसास के साथ आपकी लिखी हुई ये रचना बहुत अच्छी लगी!

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

गुजरता रहेगा वक़्त
पर मौसम टंगे रहेंगे
पतझड़ के उन्ही सुखे पत्तों पर

पतझड़ तो ऐसा ही है, यह भी गौर फरमाएं:
मुरझाया कुम्हलाया तन-मन
उजड़ी सेज कंटीली रातें।
सूखे पत्ते नंगी शाखें
पतझड़ में सताती रातें।।

sa said...
This comment has been removed by a blog administrator.
水煎包amber said...

cool!very creative!avdvd,色情遊戲,情色貼圖,女優,偷拍,情色視訊,愛情小說,85cc成人片,成人貼圖站,成人論壇,080聊天室,080苗栗人聊天室,免費a片,視訊美女,視訊做愛,免費視訊,伊莉討論區,sogo論壇,台灣論壇,plus論壇,維克斯論壇,情色論壇,性感影片,正妹,走光,色遊戲,情色自拍,kk俱樂部,好玩遊戲,免費遊戲,貼圖區,好玩遊戲區,中部人聊天室,情色視訊聊天室,聊天室ut,成人遊戲,免費成人影片,成人光碟,情色遊戲,情色a片,情色網,性愛自拍,美女寫真,亂倫,戀愛ING,免費視訊聊天,視訊聊天,成人短片,美女交友,美女遊戲,18禁,三級片,自拍,後宮電影院,85cc,免費影片,線上遊戲,色情遊戲,情色